50 मीटर तक फायरिंग वाला रिवाल्‍वर प्रबल लांच, कीमत 1.40 लाख

0
275

कानपुर। कानपुर स्थित राज्य के स्वामित्व वाले उद्यम ‘एडवांस वेपंस एंड इक्विपमेंट इंडिया लिमिटेड’ (एडब्ल्यूईआईएल) द्वारा निर्मित साइड स्विंग रिवाल्वर ‘प्रबल’ को शुक्रवार को पेश किया गया। यह दूसरों की तुलना में दोगुनी रेंज का बताया गया है। कंपनी के कार्यवाहक निदेशक राजीव शर्मा ने बताया कि एडब्ल्यूईआईएल द्वारा निर्मित ‘प्रबल’ रिवाल्वर 50 मीटर तक की फायरिंग (गोलीबारी) करेगा। उन्होंने कहा कि वेब्ले स्कॉट रिवॉल्वर के समान 7.65 मिमी कैलिबर रिवॉल्वर ‘प्रबल’ के लिए बुकिंग विंडो सोमवार से नागरिकों और डीलरों के लिए खोली जाएगी। शर्मा ने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि .32 बोर रिवाल्वर को एडब्ल्यूईआईएल द्वारा डिजाइन और निर्मित किया गया है। उन्होंने बताया कि यह हल्का राष्ट्रीय परमिट बोर रिवाल्वर एक असाधारण रेंज का है, जो 50 मीटर दूर तक के लक्ष्य को सटीक रूप से मारने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि यह उल्लेखनीय रेंज वर्तमान में उत्पादन में मौजूद अन्य रिवॉल्वरों की तुलना में दोगुना से भी अधिक है। शर्मा ने कहा कि ‘प्रबल’ रिवॉल्वर का वजन 675 ग्राम (कारतूस को छोड़कर) है और क्रोमप्लेटेड बैरल की लंबाई 76 मिमी और कुल लंबाई 187.7 मिमी है। कीमत डेढ़ लाख के आसपास रहेगी।

महिलाओं की बनेगा पसंद

इसका ट्रिगर पुल भी काफी सामान्य है। ट्रिगर पुल आसान होने से ये महिलाओं के लिए एक आसान विकल्प है, जो इसे अपने हैंडबैग में ले जाना चाहती हैं और अपनी सुरक्षा के लिए इसका इस्तेमाल कर सकती हैं। रिवॉल्वर के पहले संस्करण में, कारतूस डालने के लिए बन्दूक को मोड़ना पड़ता था, लेकिन अब वो भी नहीं करना होगा। जिससे अब ये काफी आसान मानी जा रही है।

एसएएफ की वेबसाइट पर 21 अगस्त से आनलाइन बुकिंग

600 राउंड फायर करके अचूक मार की दक्षता हासिल कर चुकी प्रबल की 21 अगस्त से एसएएफ की वेबसाइट पर आनलाइन बुकिंग शुरू हो जाएगी। रिवाल्वर की कीमत डीलर के लिए 28 प्रतिशत जीएसटी सहित एक लाख 26 हजार और सामान्य ग्राहक के लिए 28 प्रतिशत जीएसटी सहित एक लाख 40 हजार रुपये निर्धारित की गई है।

पानी और कीचड़ में नहीं होगा खराब

मेक इन इंडिया के तहत एसएएफ में निर्मित रिवाल्वर पानी व कीचड़ में गिरने पर खराब नहीं होगी और एक के बाद एक छह राउंड फायर कर सकेगी। कार्यकारी निदेशक राजीव शर्मा ने बताया कि रिवाल्वर का वजन 675 ग्राम रखा गया है। इंजीनियरों ने एक साल के अंतराल में अनुसंधान और विकास के क्रम में मेटल इंजेक्शन मोल्ड (एमआइएम) तकनीक से रिवाल्वर के हर हिस्से को सांचे में ढालकर आकार का सटीक आकलन कर विकसित किया है। प्रूफ रेंज में न्यूनतम माइनस 30 डिग्री और अधिकतम 55 डिग्री सेल्सियस तक के तापमान में परीक्षण किया गया है।

देश में अभी तक साइड स्विंग रिवाल्वर नहीं बनी

यह रिवाल्वर आयुध निर्माणी का अब तक का दूसरा सबसे हल्का हथियार है। देश में अभी तक साइड स्विंग रिवाल्वर नहीं बनी थी। इसलिए निश्चित तौर पर बाजार में ये हथियार पसंद किया जाएगा। डीलर अजय निगम ने कहा कि बाजार की मांग के अनुसार एसएएफ ने साइड स्विंग रिवाल्वर बनाया है। छोटे हथियारों के शौकीन लोग जरूर इसे खरीदेंगे। समारोह में महाप्रंधक लोकेश बाजपेयी, सुरेंद्रपति सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

प्रबल आखिर क्यों है खास

  • .32 साइड स्विंग रिवाल्वर 7.65 कैलिबर की है।
  • छह राउंड का साइड सिलिंडर बायीं तरफ खुलेगा।
  • इसका वजन बिना गोलियों के 675 ग्राम है।
  • सिलिंडर व बैरल का वजन हल्का और स्प्रिंग का लोड भी कम है।
  • बैरल को गरम होने से बचाने के लिए बोर क्रोम प्लेटेड बैरल में मिश्र धातु इस्पात का प्रयोग हुआ है।
  • डुअल-टोन सेराकोट कोटिंग (ब्लैक और टाइटेनियम शेड्स) का उपयोग किया है। लकड़ी की पकड़ के साथ
  • खास सिरैमिक पेंट होने से इसका लुक काफी बेहतर है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here